मेरा इंडिया

मेरा इंडिया ..मेरा इंडिया
रहे सामने तू ..मेरा इंडिया ,
तेरी माटी को छुआ
इन हाथों से मैं जो
तब जाके है सुकून मिला ,
रहे सामने तू
देखूं तुझे मैं यूँ
सपना मेरा यही है दुआ ,
धरती जो है तेरी
चाहत है बस मेरी
मेरा इंडिया …मेरा इंडिया ।

तू ही तो जीवन है
उसकी है कहानी ,
तुझसे ही सांसे है
उसकी है रवानी ,
मेरा इंडिया..मेरा इंडिया
तेरे बिना मैं अधूरा सा
मेरी दुनिया मेरी खुशियां
सब है तेरा मेरा इंडिया
मेरा इंडिया …मेरा इंडिया ।

जो कुछ भी हूँ मैं माँ
सब तेरी है दुआ ,
तेरे होने से ही मैं तो हुआ ,
रहे सामने तू
तुझसे मैं हूँ जुड़ा ,
ईश्वर तू ही , तू ही खुदा ,
ये जो देश है मेरा
वही देश है तेरा
मेरा इंडिया …मेरा इंडिया

निशांत चौबे ‘अज्ञानी’
२४.०७.२०१७

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *