ख्वाहिशें

तुझको पाने की सारी कोशिशे है
तुझसे मिलने की हर समय ख्वाहिशें है ,
मुझमें ही तू मगर है फिर भी दूरी तुझसे
खुद से ही खुद को पाने की मन्नते है ।

पास नदियाँ है फिर भी प्यासा हूँ मैं
सारी दुनिया के लिए इक तमाशा हूँ मैं ,
मगर इतनी सी उम्मीद मेरे दिल में बसी
कहीं भी जाऊँ, दूर तुझसे ज़रा सा हूँ मैं ।

हर इक राह पर मुड़ा हूँ जो तुझ तक जाए
ऐसी ना शाम गुजरी जब याद तू ना आए ,
अब तो इस दिल की चाहत है यही
मैं तुझमे तू मुझमे अब बस समा जाए ।

निशांत चौबे ‘अज्ञानी’
२८.०४.२०१६

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *