श्रेष्ठ भारत


ऋषियों के हम वंशज
और वीरो की संतान ,
देशभक्तों की भूमि है
ये मेरा भारत महान ।

शून्य के हम दाता है
और वेदो को प्रज्ञाता ,
अपने ज्ञान के परचम से ही
ये था जगतगुरु कहलाता ।

सम्पन्नता और विद्वता की
लिखी थी नई परिभाषा ,
इस देश में जाने की थी
सबकी बड़ी अभिलाषा ।

सागर की भांति सबको
हम अपने में समाहित करते ,
मगर कुछ जयचंद भी
इसकी भाग्य निर्धारित करते ।

अपने बच्चो द्वारा ही माँ
हर बार पराजित होती ,
अपनों के कमी के कारण
औरो पर आश्रित होती ।

भारत की प्रभुसत्ता फिर
मुगलों के हाथों आई ,
अपने बच्चो की करनी से
माँ बहुत पछताई ।

अकबर और औरंगजेब के समक्ष
जब सब समर्पण थे कर देते ,
तब भी महाराणा और शिवाजी जैसे
उनसे थे लोहा लेते ।

अंग्रेजो ने इस देश को फिर
पतन के गर्त में धकेला ,
बंगाल और पंजाब में उन्होंने
मौत का तांडव खेला ।

भारतियों को वो फिरंगी
कुत्तो के बराबर समझते ,
कानून और लगान के तहत
उन्हें भांति भांति कुचलते ।

मगर नागवार था ये सब
भारत की जवानी को ,
भगत और आज़ाद थे आए
लिखने नई कहानी को ।

‘इंक़लाब ज़िंदाबाद ‘ के नारे ने
उनके कानो में विस्फोट किया ,
जिनसे कभी ना वो उभर पाए
उनपर ऐसा उन्होंने चोट किया ।

फिर आई आज़ाद भारत की
सुबह की किरणे सुहानी ,
भारत को अब लिखना था
अपनी नई एक कहानी ।

बार-बार गिर के उठना
जीवन की कहानी है ,
जिसने कभी हार ना मानी
भारत की वो जवानी है ।

कइयों ने मिटाना चाहा मगर
हम आज भी विद्यमान है ,
इस संसार के नभपटल पर
सूर्य के सामान प्रकाशवान है ।

कोई भी श्रेष्ठ अपने
कर्मो से बनता है ,
व्यक्ति नहीं उसके गुणों की
पूजा विश्व करता है ।

मंगल और चाँद से हम
अब बातें है करते ,
विज्ञानं और तकनीक को
अपनी मुठ्ठी में है भरते ।

मगर , जब कोई भी भूखा
ना सोएगा पग में ,
तभी सही में कहलाएगा
श्रेष्ठ भारत जग में ।

निशांत चौबे ‘ अज्ञानी’
०४.१२.२०१४

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *