जानें जा

आसमां पे ये चंदा जाने क्यूँ कुछ नया है
देखा जबसे तुझको जादू सा कुछ हुआ है ,
जानें जा …..

तेर बिन जाऊँ तो मैं जाऊँ कहाँ
तेरे बिन सूना-सूना है मेरा जहाँ,
तेरे बिन अधूरी हर दुआ …

तेरे बिन लागे नहीं मेरा जिया
तेरे बिन अधूरा सा हूँ मैं तो पिया ,
तेरे बिन खुशियों ना छुआ …

देखा जबसे है तुझको होश क्यूँ है उड़ा सा
दूर रहकर भी मुझसे जाने क्यूँ तू जुड़ा सा ,
जानें जा…..

निशांत चौबे ‘अज्ञानी’
०५.०६.२०१६

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *