शब्दों के बड़े मायने है

शब्दों के बड़े मायने है ,

रोते हुए को हँसा सकते है , और
हँसते हुए को रुला सकते है ,
एक बुझा दीप जला सकते है , और
जलते हुए को बुझा सकते है ।

शब्दों के बड़े मायने है ।

कभी तो एक तीर की तरह
गहरा घाव दे जाते है , और
कभी जलते हुए घाव को
ठंडक पहुँचाते है ।
कभी अपनों के बीच हम
पराए हो जाते है , और
कभी पराए हमारे खुद
अपनें बन जाते है ।

शब्दों के बड़े मायने है ।

कभी उषा की किरणों की भांति
जग को उजियारा देते है , और
कभी अमावस की काली रात बन
सारा उजाला हर लेते है ।
कभी मीठे घाट का पानी बन
प्यास सबकी बुझाते है , और
कभी अपने प्रचंड ताप से
कंठ सबकी सुखाते है ।

शब्दों के बड़े मायने है ।

यदि उजाला फैला ना सको तो
दूत अँधेरे का मत बनना ,
यदि मुस्कान किसी का बन ना सको तो
आँसू बन किसी का मत बहना ।
शब्द हमारे बस में हो ना कि
हम उनके बस में हो जाए ,
शब्दों के जाल में उलझकर
कहीं हमारी ज़िन्दगी ना खो जाए ।

शब्दों के बड़े मायने है ।

निशांत चौबे ‘अज्ञानी’
०५.०१.२०१८

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *