मेरी दुआ

जिस आँगन में अब तक खेला
उसे छोड़ना आसान नहीं ,
ये घर तुम्हारा भी है
तुम इसकी मेहमान नहीं ।

तेरे आने से ये घर
जन्नत सा हसीन हुआ ,
तेरे मासूम चेहरे को देख
खुद खुदा पर यकीन हुआ ।

तेरी कोमल हथेलियों को
जब-जब है थामा मैंने,
ये ज़िन्दगी बड़ी आसान है
तब-तब है माना मैंने ।

पूरे दिन का तनाव
देख तुझे दूर होता ,
लगा तुझे अपने सीने से
मैं खुशियों में चूर होता ।

देखते ही देखते
तुम इतनी बड़ी हो गयी ,
कि मुझसे दूर जाने की
अब तुम्हारी घड़ी हो गयी ।

आँखे मेरी नम है
पर चेहरे पर मुस्कान है ,
मेरे दिल के तूफानों से
सब पूरी तरह अनजान है ।

कुछ दिनों में मेरी परी
दूर मुझसे हो जाएगी ,
पर ख़ुशी है मुझे क्योंकि
वो खुशियों में खो जाएगी ।

मेरी इज़्ज़त , मेरा सम्मान
मेरी दुनिया तुमसे है ,
मेरी जान से प्यारी गुड़िया
मेरी खुशियाँ तुमसे है ।

दुआ है मेरी , दामन तुम्हारा
खुशियों से भर जाए ,
जितना यहाँ तुझे प्यार मिला
उससे कहीं ज्यादा तू पाए ।

यदि कभी भूले से मैंने
दिल तेरा दुखाया हो ,
माफ़ मुझे कर देना तू
यदि कभी रुलाया हो ।

माँगता हूँ ईश्वर से
हमेशा तू मुस्कराती रहे ,
अपने साथ औरों को
हमेशा तू हँसाती रहे ।

निशांत चौबे ‘ अज्ञानी ‘
०२.१२.१२

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *