महान हूँ मैं

महान है शरीर मेरा
महान है जीवात्मा ,
महान हूँ मैं और
महान है परमात्मा ।

प्रचंड तेज में नहाया हुआ
महानता को समाया हुआ ,
अदम्य शक्ति का स्वरुप हूँ
मैं खुद उसका प्रतिरूप हूँ ।

ब्रह्म हूँ , रूद्र हूँ
और हूँ संरक्षक ,
ताण्डवी नृत्य करता
काल का हूँ भक्षक ।

अमर हूँ , अजन्मा हूँ
अनंत हूँ अविनाशी ,
शरीर रूपी देश में
हूँ मात्र एक प्रवासी ।

इस रूप को छोड़कर
कल नया रूप धरूँगा,
शरीर तो मिट जायेगा
पर मैं हमेशा रहूँगा

निशांत चौबे ‘ अज्ञानी ‘
०८.१०.२०१२

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *