मनवा काहे तू ना माने

मनवा काहे तू ना माने
अपनी ही करे मेरी ना सुने ,
मनवा काहे तू ना माने ?

क्यूँ मजबूर हूँ मैं तेरे हाथों से
क्यूँ घायल हूँ तेरे बातों से ,
मनवा अब तो तू सुन ले रे !

कोई बैर नहीं मेरा तेरा
तू हमसाया ही है मेरा ,
मनवा दर्द देता क्यूँ रे !

सुख के ही तू पीछे भागे
सुख क्या है ये भी ना जाने ,
मनवा इनता भोला क्यूँ रे !

दो पल का है ये खेल सभी
जो करना है कर ले तू अभी ,
मनवा बेबस बैठा क्यूँ रे !

जो भी होता एक कारण है
कर्मो से ही तो निवारण है ,
मनवा कर्म अब तू कर रे !

कल के ही बारे में सोचे
खुशियाँ तू कल में ही खोजे ,
मनवा आज ही सब कुछ रे !

तू साथी मेरे सपनों में
तू ही तो बस मेरे अपनों में ,
मनवा साथ दे तू अब रे !

ये युद्ध नहीं समझौता है
जीवन तेरा ही मुखौटा है ,
मनवा शक्ति दे तू अब रे !

महान हूँ मैं और महान है तू
समृद्धि की पहचान है तू
मनवा एक हो जा अब रे !

निशांत चौबे ‘ अज्ञानी’
०७.०३.२०१४

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *