नारी जाति

जननी है तुम्हारी यह
कुछ इसका तुम मान रखो ,
वज़ूद तुम्हारा इनसे है
कुछ इसका गुमान रखो ।

सारी सृष्टि इनकी रचना
तुम बस इनकी छाया हो ,
फूंके प्राण इन्होने तुममे
तब ज़िंदा इक काया हो ।

इनके गर्भ में तुमने
अपना पहला श्वास भरा ,
इनके प्यार ने ही तुममे
जीने का आस भरा ।

सारी तकलीफो को सहकर
इतना काबिल बनाया तुमको ,
अपने सपनो को देकर
सपनो सा है सजाया तुमको ।

आज मगर ये हालत है
इनका कुछ सम्मान नहीं ,
देवी है ये देवी का
किया जाता अपमान नहीं ।

अबला ना तुम इनको समझो
शक्ति की ये मूरत है ,
इनमे भी आग भरा है
शीतल इनकी सूरत है ।

ईश्वर की देन है ये
इनसे हमेशा प्यार रखना ,
दुनिया की ये सुंदरता है
इनका तुम ख्याल रखना ।

अपनी खुशियों के अलावे
इनकी ख़ुशी का ध्यान रखना ,
अपने हाथों में हमेशा
इनका भी तुम हाथ रखना ।

अंत में नारियों से निवेदन है कि
शोभा हो किसी के घर की,
इसका तुम भान रखना ,
अपने पिता की इज़्ज़त हो तुम
इसका तुम अभिमान रखना ।

सच्ची सुंदरता मन की होती है
तन की नहीं होती ,
अपनी सुंदरता का हमेशा
अपने मन में सम्मान रखना ।

निशांत चौबे ‘ अज्ञानी ‘
१६.०९.२०१२

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *