देखूंगा

गर एक सपना टूट गया तो क्या
कल फिर एक नए सपने को देखूंगा ,
इस काली अँधेरी रात के बाद
सुबह बांहे फैलाये , अपने को देखूंगा ।

अपनी सूखी इन अधरों पर
एक नई मुस्कान देखूंगा ,
अपने बल-बूते पर खुद की
एक नई पहचान देखूंगा ।

लोगो के चेहरे के
भावो को बदलते देखूंगा,
मंज़िल तक ले जाये उन
राहों को मचलते देखूंगा ।

अपने अंदर हिम्मत को
फिर उफनते हुए देखूंगा,
अपने हाथों अपनी किस्मत को
फिर संवरते हुए देखूंगा ।

जो आज हँसते है मुझपर
हँसता हुआ मैं, उनको देखूंगा,
कितनी भी मुश्किलें आये पर
बढ़ता हुआ मैं , खुदको देखूंगा ।

जो मुँह फेरते है मुझसे
तरसता हुआ उनको देखूंगा,
राह की दुश्वारियों पर
गरजता हुआ खुदको देखूंगा ।

अपनी इस हार के बाद
बहुत बड़ी जीत देखूंगा,
गिर कर उठने की
वही पुरानी रीत देखूंगा |

अपनी इस ज़िन्दगी को
खुद जी कर देखूंगा,
जिंदगी में है नशा कितना
खुद पी कर देखूंगा ।

मैं देखूंगा और मुझे
देखता हुआ लोग देखेंगे ,
निशांत नाम के सूरज को
चढ़ता हुआ लोग देखेंगे ।

निशांत चौबे ‘ अज्ञानी ‘
२७.१२.२०११

About the author

nishantchoubey

Hi! I am Nishant Choubey and I have created this blog to share my views through poetry, art and words.

View all posts

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *